हम को इस घर में जानता है कोई

Tuesday, January 20, 2009

दिन कुछ ऐसे गुजारता है कोई
जैसे एहसान उतारता है कोई

आईना देख के तसल्ली हुई
हम को इस घर में जानता है कोई

पक गया है शजर पे फल शायद
फिर से पत्थर उछालता है कोई

फिर नजर में लहू के छींटे हैं
तुम को शायद मुघालता है कोई

देर से गूँजतें हैं सन्नाटे
जैसे हम को पुकारता है कोई

53 comments:

Er. Nidhi Mishra said...

आईना देख के तसल्ली हुई
हम को इस घर में जानता है कोई

Anonymous said...

फिर नजर में लहू के छींटे हैं
तुम को शायद मुघालता है कोई

Puja said...

फिर नजर में लहू के छींटे हैं
तुम को शायद मुघालता है कोई

Dr. Pragya bajaj said...

आईना देख के तसल्ली हुई
हम को इस घर में जानता है कोई
VAAH!!

Anonymous said...

आईना देख के तसल्ली हुई
हम को इस घर में जानता है कोई

पक गया है शजर पे फल शायद
फिर से पत्थर उछालता है कोई

Swati said...

फिर नजर में लहू के छींटे हैं
तुम को शायद मुघालता है कोई

देर से गूँजतें हैं सन्नाटे
जैसे हम को पुकारता है कोई

Shalini Chopra said...

आईना देख के तसल्ली हुई
हम को इस घर में जानता है कोई

पक गया है शजर पे फल शायद
फिर से पत्थर उछालता है कोई

Anonymous said...

दिन कुछ ऐसे गुजारता है कोई
जैसे एहसान उतारता है कोई

आईना देख के तसल्ली हुई
हम को इस घर में जानता है कोई

Anonymous said...

फिर नजर में लहू के छींटे हैं
तुम को शायद मुघालता है कोई
vaah kya baat hai...

Ria Taneja said...

फिर नजर में लहू के छींटे हैं
तुम को शायद मुघालता है कोई

देर से गूँजतें हैं सन्नाटे
जैसे हम को पुकारता है कोई

Anonymous said...

आईना देख के तसल्ली हुई
हम को इस घर में जानता है कोई

Tracy said...

फिर नजर में लहू के छींटे हैं
तुम को शायद मुघालता है कोई

देर से गूँजतें हैं सन्नाटे
जैसे हम को पुकारता है कोई

Anonymous said...

देर से गूँजतें हैं सन्नाटे
जैसे हम को पुकारता है कोई

Dr.Nishi Chauhan said...

फिर नजर में लहू के छींटे हैं
तुम को शायद मुघालता है कोई

देर से गूँजतें हैं सन्नाटे
जैसे हम को पुकारता है कोई

Anonymous said...

आईना देख के तसल्ली हुई
हम को इस घर में जानता है कोई

Anonymous said...

आईना देख के तसल्ली हुई
हम को इस घर में जानता है कोई

पक गया है शजर पे फल शायद
फिर से पत्थर उछालता है कोई

Rashmi said...

फिर नजर में लहू के छींटे हैं
तुम को शायद मुघालता है कोई

Ritu said...

पक गया है शजर पे फल शायद
फिर से पत्थर उछालता है कोई

फिर नजर में लहू के छींटे हैं
तुम को शायद मुघालता है कोई

Ashok said...

फिर नजर में लहू के छींटे हैं
तुम को शायद मुघालता है कोई

देर से गूँजतें हैं सन्नाटे
जैसे हम को पुकारता है कोई

Mehnaaz said...

आईना देख के तसल्ली हुई
हम को इस घर में जानता है कोई

पक गया है शजर पे फल शायद
फिर से पत्थर उछालता है कोई

Anonymous said...

फिर नजर में लहू के छींटे हैं
तुम को शायद मुघालता है कोई

देर से गूँजतें हैं सन्नाटे
जैसे हम को पुकारता है कोई

Anonymous said...

पक गया है शजर पे फल शायद
फिर से पत्थर उछालता है कोई

Austeen Sufi said...

आईना देख के तसल्ली हुई
हम को इस घर में जानता है कोई

Tulip Banerjee said...

पक गया है शजर पे फल शायद
फिर से पत्थर उछालता है कोई

फिर नजर में लहू के छींटे हैं
तुम को शायद मुघालता है कोई

Er. Paayal Sharma said...

पक गया है शजर पे फल शायद
फिर से पत्थर उछालता है कोई

फिर नजर में लहू के छींटे हैं
तुम को शायद मुघालता है कोई

Dr. Aradhna Awasthi said...

पक गया है शजर पे फल शायद
फिर से पत्थर उछालता है कोई

फिर नजर में लहू के छींटे हैं
तुम को शायद मुघालता है कोई

Anonymous said...

पक गया है शजर पे फल शायद
फिर से पत्थर उछालता है कोई

फिर नजर में लहू के छींटे हैं
तुम को शायद मुघालता है कोई

Rohit Sharma said...

दिन कुछ ऐसे गुजारता है कोई
जैसे एहसान उतारता है कोई

आईना देख के तसल्ली हुई
हम को इस घर में जानता है कोई

अनु मिश्रा said...

फिर नजर में लहू के छींटे हैं
तुम को शायद मुघालता है कोई

देर से गूँजतें हैं सन्नाटे
जैसे हम को पुकारता है कोई

अनु मिश्रा said...

बहुत खुब, एक सुंदर और सफल प्रयास
धन्यवाद

Anonymous said...

पक गया है शजर पे फल शायद
फिर से पत्थर उछालता है कोई

फिर नजर में लहू के छींटे हैं
तुम को शायद मुघालता है कोई

अल्पना वर्मा said...

आईना देख के तसल्ली हुई
हम को इस घर में जानता है कोई

bahut hi khubsurat khyaal hain..umda ghazal!

Anonymous said...

दिन कुछ ऐसे गुजारता है कोई
जैसे एहसान उतारता है कोई

आईना देख के तसल्ली हुई
हम को इस घर में जानता है कोई

पक गया है शजर पे फल शायद
फिर से पत्थर उछालता है कोई

Anonymous said...

दिन कुछ ऐसे गुजारता है कोई
जैसे एहसान उतारता है कोई

आईना देख के तसल्ली हुई
हम को इस घर में जानता है कोई

Dr. Palki Vajpayee said...

आईना देख के तसल्ली हुई
हम को इस घर में जानता है कोई

Preeti said...

पक गया है शजर पे फल शायद
फिर से पत्थर उछालता है कोई

फिर नजर में लहू के छींटे हैं
तुम को शायद मुघालता है कोई

Richa Saxena said...

आईना देख के तसल्ली हुई
हम को इस घर में जानता है कोई

पक गया है शजर पे फल शायद
फिर से पत्थर उछालता है कोई

Anonymous said...

आईना देख के तसल्ली हुई
हम को इस घर में जानता है कोई

पक गया है शजर पे फल शायद
फिर से पत्थर उछालता है कोई

Anouska Awasthi said...

आईना देख के तसल्ली हुई
हम को इस घर में जानता है कोई

पक गया है शजर पे फल शायद
फिर से पत्थर उछालता है कोई

Anonymous said...

पक गया है शजर पे फल शायद
फिर से पत्थर उछालता है कोई

फिर नजर में लहू के छींटे हैं
तुम को शायद मुघालता है कोई

Anonymous said...

आईना देख के तसल्ली हुई
हम को इस घर में जानता है कोई

पक गया है शजर पे फल शायद
फिर से पत्थर उछालता है कोई

Shilpi Verma said...

आईना देख के तसल्ली हुई
हम को इस घर में जानता है कोई

पक गया है शजर पे फल शायद
फिर से पत्थर उछालता है कोई

Ritika Pandey said...

आईना देख के तसल्ली हुई
हम को इस घर में जानता है कोई

पक गया है शजर पे फल शायद
फिर से पत्थर उछालता है कोई

Ritika Pandey said...

आईना देख के तसल्ली हुई
हम को इस घर में जानता है कोई

पक गया है शजर पे फल शायद
फिर से पत्थर उछालता है कोई

Amrita Kumari said...

पक गया है शजर पे फल शायद
फिर से पत्थर उछालता है कोई

फिर नजर में लहू के छींटे हैं
तुम को शायद मुघालता है कोई

Ruchika Mittal said...

आईना देख के तसल्ली हुई
हम को इस घर में जानता है कोई

Dr. Gunjan Gehlot said...

फिर नजर में लहू के छींटे हैं
तुम को शायद मुघालता है कोई

Dr.Ruchika Rastogi said...

आईना देख के तसल्ली हुई
हम को इस घर में जानता है कोई

Trisha Pandey said...

आईना देख के तसल्ली हुई
हम को इस घर में जानता है कोई

  © Blogger templates Newspaper by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP